SANSKRITIK SANGAM,Salempur

     DEDICATED TO TRADITIONAL CULTURE AND TO THE ASPIRANT'S FOR ACTING ON STAGE PLAYS,TV SERIALS AND FEATURE FILMS 

        संगीत साहित्य कला विहीनाः,साक्षात्पशु: पुच्छ विषाण हीनः
        ते मर्त्य लोके भुविभार भूतः, मनुष्यरूपेंण मॄगाश्चरन्ति :"
        जो मनुष्य सगीत साहित्य कला से विहीन है,वे साक्षात् पशु के समान है ! यद्यपि उनके सींग और पूँछ नहीं होते फिर भी वे पशु समान है !

SANSKRITIK SANGAM HAS BEEN 795 DAYS ON STAGE WITH IN ELEVEN YEARS.

      Sanskritik Sangam is a leading cultural organization that has been promoting rich Indian culture through regional artists based in Uttar Pradesh. Since its establishment in 2005,we have organized OVER 795AYS STAGE PLAYS of theatrical presentations all across the country on subjects that are central to India’s cultural history.One of our most popular creation, Meghdoot Ki Puravanchal Yatra,an adaptation of Kalidasa’s Meghdootam has done a record 110 shows in cities like Mumbai,Delhi,KOLKATA Rishikesh,Agra,Varanasi ,Patna, Sonpur Mela Gorakhpur,and near by areas in eastern UP among others.The creations has won many awards and recognitions for our team through leading organizations like Rotary Club including honors from government bodies.

          Sanskritik Sangam's other creations revolve around famous mythological and historical personalities and stories like, Ramayana(7 to 9 days play)46places,Shiv vivvah,Bhagwata(7 days play)two places,Kabir(23 places),Harishchandra Taramati,(37 Places), Utho Ahilya(45 places) and Sri Krishna Katha(Three places).We also perform popular plays from Hindi literature including Kaptan Sahab(31),Court Marshall(1),Saiyyan Bhaye Kotwal(30),Muvaavaje(2),Bakari(2),Bade Bhai Saheb(63),Kafan(12),Bholaram ka jeev(17),Satgati(2) ,Boodhi kaaki (3),kakha ga kaa chakkar(7),Jago grahak jaago (3)etc .among other presentations based on famous literary geniuses like Munshi Premchand,Bhikaari Thakur,etc.

          Sanskritik Sangam's team comprises of over 60 artists from a wide age group and diverse backgrounds.The team included actors,director,child artists,classical and semi classical dancers,musicians like flute,tabla,harmonium, keyboard,shehnai,mridangam and violin players.Sanskritik Sangam’s work has been published  by many leading newspapers and magazines at national level including India Today,Dainik Jagran,Rashtriya Sahara,Amar Ujala,Aaj, Hindustan and Jan Sandesh,Times of India to name a few.

          It has been Sanskritik Sangam's continuous effort to provide an alternative source of entertainment to the society amidst growing number of adulterated, vulgar,ugly and inappropriate entertainment on television and cinemas.While Sanskritik sangam's presentations bring “navrasas” of art together to mesmerize the audience,they also inspire the youth to look at art and culture from a new perspective.The culture which is diminished by growing consumerism in the country.This is established by the fact that over 90% of  the team comprises of young individuals who, over a period of time,have learned the skills to appreciate and perform arts.They are a highly motivated and committed team of young and dynamic professionals who have been bringing a difference in society through their constant endeavor to establish Theater as primary source of entertainment by conceptualizing and performing beautiful creations based on Indian culture and history and by using modern theatrical, sound, lighting and direction techniques to create an everlasting impression among the masses.

         Sanskritik Sangam's future plans include making theater available at every city and town across UTTAR PRADESH by utilizing new age tools and technologies and inspire millions of people with breathtaking concepts and performances. It will be a dream come true when the young Indians will turn its face again towards the idea called “India” and contribute its bit in shaping it as a leading countries among the world with its feet firmly rooted in its rich cultural soil.Its work so far has been only few water drops in the mammoth task,however, Sanskritik Sangam team is resolved to achieve the collective dream.


WELCOME EVERY ASPIRANT'S IN PERFORMING ART (ACTING)

                  

        Do you have passion for acting on stage plays,T.V.serials and feature films? Do not shy,come and join without prior experience,"SANSKRITIK SANGAM'S" Director and Masters bring out the Actor lying in you.Admissions are free.Need not think about the fees like other Institutions and Organisations are charging.

        To conserve our Indian culture and stage dramas,plays (theatre activities) however we felt much desired need for creating the atmosphere, paticularily in Eastern Uttar Pradesh and started activities in this field with the help of young and aspiring artist's since 2004.Operating from a small town Salempur,We represent culture through Regional folk and Art forms.


OUR MISSION

        To promote talent from rural and urban region in Uttar Pradesh and other states of India and consolidate with theatre ecosystem through the medium of regional,folk,traditional, historical,mythological and social art and culture. 


ACTIVITIES

        In our quest towards preserving our culture we conduct plethora of activities.Working young and talented individuals who aspire to raise the level of true art forms.Our activities rolled through the year across various states of India,Conducting acting work shops at rural,urban and remote areas.To secure traditional folk dance forms,lyrics,songs,plays,literature,culture themes and other aspects of culture and we represent them wider audience through stage plays and performances,even through short films,documentaries,music releases etc, performing plays at various indoor and outdoor places.Providing training in scriptwriting,story and play writing for T.V and feature films. 

         (The Drama /Theater School, like SanskritikSangam is  open for all aspirants of acting in theater TV serials and feature films,we give direct chances to act on stage plays and pay handsome remuneration higher than any other organizations.)

   


         मंच पर अभिनय-कलाकार बनने का जूनून,जज्बा,धुन या प्रबल इच्छा रखने वालों के लिये सांस्कृतिक संगम स्वागत करता हैं।क्या आपमें ऐसी कोई इच्छा है?आपको रंगमंच,टी वी सीरियल्स या फिल्मों में काम करने की सोच सताती है? हिचकिये मत।शर्माइये मत।घबराईये भी मत।आप किसी पूर्व अनुभवों के बिना भी सांस्कृतिक संगम सलेमपुर की संस्था से संपर्क करें,संस्था के निर्देशक एवं अनुभवी कलाकारों द्वारा आपके अंदर छिपे कलाकार को जगाने की दक्ष्यता हैं। बिना किसी शुल्क के,आपको भव्य मंच पर अपनी योग्यता को दिखाने के अवसर भी प्राप्त होंगे।  

कला

जब आपके पास कला है तो आप साधारण को भी असाधारण बना सकते हैं।


कलाकार

एक कलाकार मिट्टी से भी सबसे अच्छे कण चुनने की योग्यता रखता है।

SANSKRITIK SANGAM is most successful in open ground stage-plays.(Indoor & Outdoor)in Eastern U.P

                SANSKRITIK SANGAM has been  presented it's Stage plays in ....... Mumbai,Delhi(3),KOLKATA,Agra,Rishikesh,Kanpur,Patna,Sonpur(27 days) Jhansi,Ayodhya Allahabad,Varanasi,Mirzapur, days.Vindhyanchal(4),Azamgarh,Jaunpur,Badalapur,Balia(7),Deoria(99),Salempur(35),Baitalpur,Chouruchoura(4),Badahalganj(5),Golabazar,Gorakhpur(157),Magahar(3),Khalilabad,Haraiya,Basti,Maharajganj(6),Kaptanganj(5),Kasia(5),Tamkuhiraj(11),Dudhai,Turkpatti(12),Sukrouli(11),Samaur,BhatahiKhurd(63),Pathardeva(3),Padarauna(7)Manasachaper,Paikoli,Banakata,Fazilnagar(3),Dharhara(7),Jokhvabazar(7),Semara,Dhadha(Hata(9),Sohang,Barhaj(2),NebuaNaurangi(BhujavaliPramukh),Khangi,Sisawa,Bothervaar(7),Vijaipur(7)and many other places,almost all over in EASTERN UTTAR PRADESH..


 "मेघदूत की पूर्वांचल यात्रा"

         महाकवि कालीदास की कालजयी रचना मेघदूतम् को पूर्वांचल की सीमा में समेटते हुए लिखी गयी "मेघदूत की पूर्वांचल यात्रा"भोजपुरी नाट्य-शिल्प के इतिहास में रचित अब तक की प्रथम नृत्य - गीत,नाटिका है। 

       नायक युवा यक्ष अपने स्वामी कुबेर द्वारा श्रापित है और पत्नी वियोग का दिन चित्रकूट में काट रहा है। वन,पुष्पों एवं वन के नैसर्गिक वातावरण से उद्दीप्त हो वह अचानक गा उठता है .....

            गह गह फूलेला बन फुलवाहोss...........  

       उधर यक्षों के नगर अलकापुरी में पति वियोग से पीड़ित यक्षिणी भी अपना दर्द कुछ इस तरह बयां करती है..... 

            गह गह फूलेली बेयलिया  होss ..........

       अनायास यक्ष को आकाश में आषाढ़ के बादल दिखाई देते हैं। वह अपना विरह सन्देश मेघों के माध्यम से अपनी प्रेमिका तक भेजना चाहता है।दयालु मेघ यक्ष का सन्देश लेकर उसकी नगरी अलकापुरी की ऒर चल पड़ते हैं.......

            बिरहा के मारल यक्ष के सन्देश लेके 

            चली भइलें बदरा पूरब मोरे मितवा ss......

       आषाढ़ मास-पानी की बून्द-बून्द को तरसते लोग तपिश से चिटकी हुई धरती और मेघ से जन मानस का आग्रह.......

            एहो कारे बदरा तू आके हमरी दुअरा sss……… 

      रस तृप्त खेत खलिहान और सावन की रिमझिम फ़ुहार तरुणियां एवं बालाओं के मन में आंदोलित करती हुई सावनी फुहार अब तो कजरी का ही मौसम है .......

            सखी हे सावन मास सुहावन ssss… 

      भादों का महीना-कृष्ण पक्ष अष्टमी के दिन का महत्वपूर्ण कृष्ण जन्मोत्सव और सोहर के मधुर स्वर लहरी पर झूमता गाता मथुरा एवं गोकुल का जन समूह .......

            मथुरा में लेलें अवतार त s ss.......

      कुआर मास के नवरात्र में उल्लास-भरा वातावरण आदिशक्ति माता दुर्गा का पूजन अर्चन शक्तिपीठों पर गीत गाता,संकीर्तन करता हुआ जन समूह .... 

           तोहरे मंदिर के दुअरिया sss .......

      तीज-त्योहारों का पावन मास कार्तिक कोने-अँतरे का अंधकार मिटाने को कटिबध्द दीपमालिका -सृष्टि के प्राण एवं ऊर्जा के स्रोत सूर्यनारायण और उनकी आराधना का महाबल सूर्य-षष्टी-घाटे-घटुआरे,उल्लास पूर्ण छठ का गीत गाती महिलाएं …

           केरवा जे फरेला घवद सेss …… 

      मेघदूत के जल-दान का प्रतिफल किसानों के अन्नपूर्ण घर आँगन एवं डेहरी-बखार,श्रम और उल्लास का सम्मिश्रण ....             

           रामा बगिया में पांच पेड़ अमवा sss....... 

      खेतों पर सरसों के फूलों की पीली चादर-माघ की सिरहन,ऐसे में भला कैसे वष में रहे मन .... 

           कैसे राखी मनवा मर के sss ......

       फागुन का मस्त महीना,भांग के नशे में झूमते-गाते लोग,रंग-गुलाल उड़ाते ब्रज की बालाएं,नन्दगांव के छोरे होलीखेलो-होली खेलो रे --- 

           आज बिरज में होली है रे रसिया .... 

      होली का खुमार भला कैसे उतरे जब सामने खड़ा चइत अंगड़ाई ले रहा हो,अब तो राम ही बचाये … 

           चुअत अन्हरवे अजोर ओ रामा … 

      बइसाख-जेठ का महीना-बगिया में ऊपर आम के टिकोरे और महुआ के वृक्षों के नीचे बेसुध पसरे मादक महुओं के फूल-तिलक-विवाह एवं अन्य मांगलिक कार्यों की भागदौड़ में सगुन,मैयागीत,चउका,चुमावन,हरदी शिवविवाह,रामविवाह ,द्वारपूजा,परिछावन,कन्यादान,सोहाग आदि संस्कारों के प्रमुख गीतों का आनंद के साथ बिछोह की पीड़ा में सिसकते हुए मेघ की यात्रा पूर्ण होती है।  

         One of our most popular creation,Meghdoot Ki Puravanchal Yatra, an adaptation of Kalidasa’s Meghdootam has done a record 108 shows in cities like Mumbai,Delhi,Rishikesh,Agra,Varanasi,Patna,SonpurMela Gorakhpur,near by areas in eastern U.P.among others.The creations has won many awards and recognitions for our team through leading organizations like Rotary Club including honors from government bodies.


SYNOPSIS OF THE PLAY "MEGHDOOT KI POORVANCHALYATRA" 


Language...Bhojpuri . Director...Manvendra Tripathi. Writer...Baldauji Vishwakarma.                   Duration....2.00 Hrs   Genre....Musical-Dance-Drama . 

        

            Meghdoot Ki Purvanchal Yatra(MKPY),a musical-dance-drama, is a poetic description of year-round customs and cultural practices from Purvanchal (Eastern Uttar Pradesh and Bihar).Inspired by Kalidasa’s Meghdootam and woven around Bhojpuri heartland,the play has completed 108 shows across India winning thousands of hearts through the journey of diverse emotions and fragrance of rustic art. 

            Cursed by Kuber to stay separated for a year with his newly-wedded wife,Yaksha asks Megh (the clouds) to convey his love to Yakshini when he arrives at Alkanagiri.Megh,now the messenger Meghdoot,travels across the Purvanchal witnessing beautiful customs, diservse emotions and warm social bonds through changing seasons. 

            Meghdoot’s journey begins with aŝadha maas and continues through saavan,bhado,kuanr, kartik,agahan,poos,magh,phagun, chait,baisaakh,jeth and others playing traditional songs like at birah,biraha,Kajari,Sohar,Devi geet,Chhatha,Sram geet,During harvest Ullas geet,fagua,Holi geet,Pachara,chhaiti,Chhaita,vivaah geet sung during wedding like Tilak,Sagun,Chouka,Maiyageet,Haldi, Chumavan,Mandap,Shiv vivaah,Ram vivaah,Dwar pooja.Kanya daan,Sohag till Bidaai,Supported by traditional poetic on-stage narration,35 artists play different roles of villagers,youth,bride,groom, family members,priests demonstrating activities and interactions that define the true Bhojpuri culture.

             Contrasting to what is presented currently in popular Bhojpuri culture,"Meghdoot Ki Poorvanchal Yatra" is true and refreshing experience of Bhojpuri culture; indeed a revolution in its segment.

Cast and Crew.:::

PRODUCED .BY.....Y SHANKER MURTI ,DIRECTED..BY....MANVENDRA TRIPATHI , MUSIC...LATE YUNUS KHURESHI.

SINGERS...RAMDARAS SHARMA,BRIJESH SHANDILYA,TULIKA UPADHYAY,RANJANA,ARCHANA SINGH etc.STAGE...BALINDER

ARTIST...(32)on stage(4)off stage.



  उठो अहिल्या

           

        अहिल्या की कथा एक प्रख्यात आख्यान है।वैदिक साहित्य से लेकर महाकाव्य पुराणों तक इसके सूत्र मिलते हैं।इस कथा से सम्बंधित तीन प्रसंग प्रमुखता से चर्चित है।  

१. इंद्र द्वारा गौतम पत्नी अहिल्या के साथ दुराचार ,
२. गौतम द्वारा इंद्र और अहिल्या को श्राप देना और 
३. राम के चरण स्पर्श से शिला बनी शापित अहिल्या का उद्धार।  
        प्रस्तुत नाटक इसी कथा को आधार बना कर लिखा गया है।इस कथा को आज की समस्याओं,संभावनाओं  और आकांक्षाओं के अनुरूप परिवर्तित किया गया है।इंद्र गौतम से देव-दानवों के युद्ध में सहायता मांगने आते हैं।वहां वह परम सुंदरी अहिल्या को देखता है।वह अहिल्या पर मुग्ध-लुब्ध हो जाता है।छलपूर्वक एक दिन अवसर पाकर अहिल्या के साथ दुराचार करता है।गौतम दोनों को श्राप देते हैं। नाटक में अहिल्या पत्थर बनती है,सामाजिक उपेक्षा से पथरा जाती है,पाषाणवत् हो जाती है।गौतम के आश्रम की उसकी सखियाँ सुलभा और घोषा उसे सँभालने का काम करती हैं,किन्तु उनके पति भी आश्रम छोड़कर उनके साथ अन्यत्र चले जाते हैं। विश्वामित्र जब राम-लक्ष्मण के साथ मिथिला जा रहे होते हैं,बीच में गौतम का उजाड़ आश्रम मिलता है।राम-लक्ष्मण की जिज्ञासा पर विश्वामित्र पूरी कथा बताते हैं।राम और लक्ष्मण सामाजिक और पारिवारिक उपेक्षा की शिकार बनी पथराई अहिल्या से मिलने की इच्छा प्रकट करते हैं।अहिल्या अवसादग्रस्त है,उसे पुरुषमात्र  से घृणा हो गयी है। धीरे-धीरे राम और लक्ष्मण उसे उत्साहित और प्रेरित करते हैं।अहिल्या कहती है, ..अब तक इसी आशा से जी रही थी कि कोई तो आएगा जो नीच देवेन्द्र को दंड देगा।राम कहते हैं,नहीं माँ,नहीं …क्यों करती हो प्रतीक्षा किसी पुरुष का ? उठें ,जागें ,और अपनी मुक्ति का मार्ग स्वयं ढूंढें।आगे कहते हैं .... तुम पवित्र हो माँ …उठो  माँ,उठो ....और हमें पवित्र करो .अपनी लघुता की कुंठा से मुक्त हो कर जीवन के राग छंद में पुनः सक्रिय हो, उठो.…अपने भीतर ही प्रकाश का संधान करो माँ .... अपने भीतर ही फूट पड़ेंगे अजस्र स्रोत,शक्ति के,नहीं है बाहर कोई तुम्हारा रक्षक,तुम स्वयं रक्षक हो,आदिशक्ति हो...उठो … शताब्दियों से दलित- पीड़ित सभी चेतना को जागृत कर उसे शक्ति का स्रोत दिखाया गया है,स्त्री का रक्षक कोई राम-पुरुष नहीं है . . .वह स्वयं अपनी रक्षक है। 
           इस नाटक में सांकेतिक रूप में रावण को निरंकुश आतताई और आतंकवाद का पोषक दिखाया गया है।इसके हस्तक,सुबाहु और मारीचि ने गहन वन प्रांतर में अपने उपनिवेश बना कर यहीं से वे मनुष्यों और ऋषियों-मुनियों पर आक्रमण करते हैं।इन शिविरों में नए राक्षस आतंकवादी भी बनाये जाते हैं।
          अगर किसी स्त्री के साथ कोई बाहुबली या धनपशु दुराचार करता है,तो समाज तो दूर उनके परिजन भी उसे स्वीकार करने में डरते हैं।वह उपेक्षा की शिकार पीड़ित-दलित स्त्री या तो पत्थर बन जाती है या आत्महत्या कर लेती है।स्त्री चेतना के शशक्तिकरण को बल देने वाले इस नाटक में अंत में अहिल्या कहती है"मैं अहिल्या,मेनका पुत्री अहिल्या ,पापी को दंड दूँगी,इंद्र को दंड दूँगी।" इसी के साथ भीड़ से अनेक स्त्री स्वर उठते हैं I इंद्र को दंड दो  .... पापी को दंड दो। इंद्र सत्ता और शक्ति का प्रधान केंद्र है।उसके विरुद्ध स्त्री स्वर मुखरित होता है,समाज की घातक चुप्पी को तोड़ने वाले इस स्वर को मुखरित करने का काम करता है यह नाटक… उठो अहिल्या।  

            UTHO AHALYA

           “Utho Ahilya”,is a powerful narrative relevant to problems,possibilities and expectations of today’s society and its indifference towards women. 

            Opportunistic Indra “deceptively” misbehaves with Ahilya while he comes to seek help from Gautam for Dev-Daanav war.Disappointed Gautam curses them both and leaves the ashram and innocent Ahilya behind. Ahilya is stoned of this indifference and apathy.

            Vishwamitra, Ram and Lakshma were on their way to Mithila when they find the old-wrecked ashram and Ram comes to know of this sad story. Rama expresses his interest to meet Ahilya, who is stoned, depressed and has cultivated deep hatred against men.“I was waiting; for someone who would punish that lowly Indra”, says Ahilya.Upon which Rama encourages her not to depend on men for self-reclamation; but to break this killing silence society has worn for its indifference towards women. He empathizes how the powerful misbehave with women and society tends to ignore women leaving her behind to be stoned. Utho Ahilya is an attempt to break this silence.

CAST AND CREW.

PRODUCED...Y SHANKER MURTI,DIRECTED...MANVENDRATRIPATHI, WRITTEN  SRI SURENDRA DUBEY,SONGS...GOURI SHANKER MISHRA.

SINGER...RAMDARAS SHARMA...MUSIC....MANOJ TRIPATHI,PINTU,ASHOK VALMIKI,J P MANI TIWARI/..STAGE SET...BALINDER..

LIGHT AND SOUND...SANDEEP AND PRADEEP.

ARTIST...18 ON STAGE,2 OFF STAGE

DHAI AAKHAR PREM KA ( KABIR )       

         जब हम सत्य,मानवता,प्रेम,शांति और अहिंसा की बात करते हैं तो निश्चित ही हम गौतम बुद्ध के बाद कबीर की याद आ जाती है। कबीर के शाब्दिक अर्थ महान का परिचय भी उनके व्यक्तित्व की प्रखरता, चरित्र की निर्मलता.स्वभाव की सहजता, उनका निष्कलंक मन और उनके साधना की सराहना उनके प्रशंसकों एवं विरोधियों में समान रूप से मिलती है। उनकी वाणी में अनुभूति की सच्चाई मिलती है।वे पूर्ण सत्य का साक्षात्कार करने वाले संवेदनशील संत थे।समाज सुधारक सर्वधर्म समन्वयकारी हिन्दू-मुस्लिम ऐक्य विधायक के रूप में और वेदांत व्याख्याता, दार्शनिक के रूप में भी चर्चित रहे हैं। वे भारतीय संस्कृति सागर के गहन मंथन से प्राप्त दिव्य नवनीत हैं। कबीर एकमात्र ऐसे कवि हैं जिन्होंने समस्त धार्मिक आडम्बरों एवं ब्रम्हाचारों को नकारकर सहज जीवन पद्धति को सर्वोच्च मूल्य के रूप में प्रतिष्ठित किया है।

        वर्तमान सामाजिक सामयिक संदर्भों में कबीर सबसे ज्यादा प्रासंगिक है। उनके द्वारा प्रत्येक के लिए आशा के द्वार खुलते हैं। कबीर से ज्यादा साधारण आदमी खोजना दुरूह है। 

         कबीर निपट गंवार,अनपढ़,गृहस्थ और श्रमजीवी हैं।जीवन भर कपड़ा बुनने और बेचने वाले कबीर के जाति का पता नहीं।जनश्रुति के अनुसार वे हिन्दू की कोख से पैदा हुए और मुसलमान के घर में उनका पालन-पोषण हुआ। कबीर न ज्ञानी है,न शिक्षित,न धनी ,न सुसंस्कृत और न ही समादृत। 

        कबीर जैसा साधारण व्यक्ति अगर परं ज्ञान को उपलब्ध हो गया तो कोई भी हो सकता है। कबीर का पूरा जीवन एक सीधा- साधा आचरण है। एक ऐसा आचरण जो सभी दीवारों को ध्वस्त कर अनंत आकाश की यात्रा करता है जो धरती को नहीं आकाश को जीतता है ,जो सभी प्रकार के विभाजनों के विरोध में खड़ा है। वर्तमान समाजिक परिदृश्य में कबीर को पढ़ना, कबीर को सुनना और कबीर को देखना परम आवश्यक है। अस्तित्व के अनूठे नृत्य, परम रस के काव्य,शून्य के संगीत और जीवन के महोत्सवमय कबीर के जन्म से मृत्यु पर्यन्त तक की यात्रा को मंच पर देख कर निश्चित ही उन कर्मकांडों के विरुद्ध तन कर खड़े होंगे और अंध विश्वासों को ध्वस्त करने का सiहस बटोरेंगे। 

       कबीरयुगीन निर्गुणोपासना,रहस्यवाद,दार्शनिक विचार व् सामाजिक दर्शन,उन सभी पाठकों,आलोचकों व् अनुयायियों, शोधार्थियों हेतु एक नवीन विषय वस्तु तो है ही मनोरंजक व् सूचनादायक भी है।

-------------------------

मोको कहाँ ढूंढें रे बन्दे ?

मैं तो तेरे पास में 

ना तीरथ में ,ना मूरत  में 

ना  एकांत निवास में ,

ना मंदिर में ,ना मस्जिद में 

ना काबे कैलास में 

मैं तो तेरे पास में बन्दे

मैं तो तेरे पास में 

ना मैं जप में ,ना मैं टप में 

ना मैं बरत उपवास में 

ना मैं क्रिया करम में रहता 

ना ही जोग सन्यास में 

नहीं प्राण में नहीं पिंड में 

ना ब्रह्माण्ड आकास में 

ना में प्रकृति प्रवर गुफा में 

नहीं स्वासन की स्वांस में 

खोजि होए तुरत मिल जाऊं 

इक पल की तलास में 

कहत कबीर सुनो भाई साधो 

मैं तो हूँ विस्वास में 

------------------------------------

Where do you search me? 

I am with you 

Not in pilgrimage, nor in icons 

Neither in solitudes 

Not in temples, nor in mosques 

Neither in Kaba nor in Kailash 

I am with you O man 

I am with you 

Not in prayers, nor in meditation 

Neither in fasting 

Not in yogic exercises 

Neither in renunciation 

Neither in the vital force nor in the body 

Not even in the ethereal space 

Neither in the womb of Nature 

Not in the breath of the breath 

Seek earnestly and discover 

In but a moment of search 

Says Kabir, Listen with care 

Where your faith is, I am there.


भाषा ....  हिंदी              निर्देशन/लेखक....मानवेन्द्र त्रिपाठी     प्रस्तुतकर्ता ... वाई शंकर मूर्ति 

समय....  २.  ३० घंटे        विधा......... नाटक एवं  गीत

 SHIRDI KE SAI BABA

           "Shiradi Ke Sai Baba"is a famous live saint in India.Many devotees felt his presence whenever they call him heartily,this stage play is on his life story,sayings and benevolent Played 9 times at various places till this date.

        BABA'S  WELL KNOWN EPIGRAM "SABKA MALIK EK HAI"IF PERVADES IN THE PANDAL AND  AUDIENCE IMAGINE !! HOW YOU FEEL!!

Language...Hindi.                           

Director...Manvendra Tripathi. Writer....Manvendra Tripathi                                                           Duration....2.30 Hrs               Genre....Musical-Dialogue-Drama (Live) 

          

           एक अंग्रेज पर्यटक शिरडी सांई के स्थान पर आया हुआ है और देखता है कि एक औरत अपने मरणासन्न पति के जीवन के लिए बाबा से प्रार्थना कर रही है और उसी बीच वह जी उठता है। इस दृश्य को देख हतप्रभ हो जाता है कि एक पत्थर की प्रतिमा का चमत्कार कि क्या ऐसा संभव हो सकता है ? यह सत्य है या स्वप्न ? उसका साथी बताता है कि ऐसी अनेकों शक्तियां इस धरा पर है,जो आश्चर्यचकित कर देते हैं। क्योंकि ईश्वर अपने अंश से महापुरुषों के रूप में अवतरित हो कर मानवता की रक्षा और भलाई के लिए आते रहते हैं। ज़ो हमने देखा वह भी सत्य है। अंग्रेज अपने मित्र से साईबाबा के विषय में जानने के लिए उत्सुक हो उठता है उसका मित्र उसकी जानकारी के अनुसार बताने लगता है.....

          कि एक बार बाबा से चाँद मियां मिले जब उनका घोडा कहीं ग़ुम हो गया था तो बाबा की कृपा से उनका घोडा उन्हें पुनः मिल जाता है।अक्सर बाबा शिर्डी में बाईजामा के यहाँ जाते थे जहाँ उनके गुरु का वास था। तात्या,अब्दुल, म्हाळसा, लक्ष्मी आदि उनके शिष्य बनकर उनके साथ द्वारका माई में रहते थे।बाबा सदा सभी में दया,प्रेम,करुणा का रस बरसते रहते थे और बताते कि जाति-पाती,उंच नीच की अवधारणा सही नहीं है।सत्य एक ही है और"सब का मालिक एक"ही है।  

          बाबा के समय में ही बाईजामा देह छोड़ चुकी थी,उनसे मिलने बाबा तीन दिन के लिए समाधी में चले जाते हैं , उनके लौटने की प्रतीक्षा उनके सारे भक्त बड़ी आतुरता से करते हैं,तो अंग्रेज शासन को संदेह होता है कि कहीं इस बहाने हिन्दू मुस्लिम मिलकर उनके विरुद्ध कोई षड्यंत्र तो नहीं रच रहे है ? इस बीच बाबा के चमत्कारों से अवगत होते हैं।एक कोढ़ी को कोढ़मुक्त करना,एक अंधे की आँखों में ज्योति को लौटना,भक्तो के दुःख को पहले समझ कर उनके दुखों का निवारण करने जैसे अभूत पूर्व चमत्कारों से अभीभूत हो जाते हैं,तीन दिनों बाद बाबा समाधि से लौट आते हैं,उसी  शिर्डी में एक निर्माणाधीन मंदिर में १५ अक्टूबर १९१८ को पूर्ण समाधि लिए जाने के पूर्व उन्होंने अपने भक्तो को ११ उपदेश दिए और कहे कि जब भी उन्हें मन से याद करेंगे वे उनके पास रहेंगे।

------------------------------------------------------------------------

SRI SAI BABA'S  11 ASSURANCES

Sai Baba encouraged charity, and stressed the importance of sharing. He said: "Unless there is some relationship or connection, nobody goes anywhere. If any men. or creatures come to you, do not discourteously drive them away, but receive them well and treat them with due respect. God will certainly be pleased if you give water to the thirsty, bread to the hungry, clothes to the naked, and your verandah to strangers for sitting and resting. If anybody wants any money from you and you are not inclined to give, do not give, but do not bark at him like a dog. Other favourite sayings of his were "Why do you fear when I am here" and "He has no beginning... He has no end.

Sai Baba made eleven assurances to his devotees: 

1.No harm shall befall him, who steps on the soil of Shirdi.

2.He who comes to my Samadhi, his sorrow and suffering shall cease.

3.Though I be no more in flesh and blood, I shall ever protect my devotees.

4.Trust in me and your prayer shall be answered.

5.Know that my spirit is immortal, know this for yourself.

6.Show unto me him who has sought refuge and has been turned away.

7.In whatever faith men worship me, even so do I render to them.

8.Not in vain is my promise that I shall ever lighten your burden.

9.Knock, and the door shall open, ask and it shall be granted.

10.To him who surrenders unto me totally I shall be ever indebted.

11.Blessed is he who has become one with.


RAMAYAN MANCHAN  

           हम आपको श्रीराम के दरबार में उनके प्रिय पार्षद के रूप में आमंत्रित कर रहे हैं।रामकथा पुनर्नवा है। वह कभी समाप्त नहीं होती,उसका रस प्रवाह कभी नहीं रुकता।वह अनवरत बहती रहती है,दुःख में भी,सुख में भी,पीडा में,उल्लास में,काल की हर इकाई में,आज-कल और समूचे इतिहास में राम वही राम है शाश्वत,सनातन,करुणामय, पुनर्जात भगवान।ज्योतिर्मय देवताओं से भी अधिक प्राचीन और नित्य प्रगट होने वाली ऊषा से भी नवीन।

         जीवन चेतना का नाम है।ऊर्जा का प्रवाह है जीवन।यह प्रवाह कभी नहीं रुकता।चक्र की  तरह आवर्तित होता रहता है।ब्रह्मा सृजन है,शिव विसर्जन,और राम जीवन है।सारा संसार उपलब्ध है फिर भी हर क्षण छूटता जा रहा है।जो किसी भी क्षण नहीं छूटता वही राम है। 

          सतत वर्तमान वही राम पुनः -पुनः प्रगट होने जा रहे हैं आपके बीच अपने समस्त लीला विलास के साथ। उसका साक्षी बनने के लिए आपको नेवता दे रहे हैं ,पांच पान और नौ नारियल के साथ।सबका सहयोग होता है तभी उत्सव सुशोभित होता है।  

          भारतीय मानस सत्य,पराक्रम और कोमलता की त्रिपुटी में आज भी राम,लक्ष्मण और सीता को देखता है।यही कारण है कि उसके संघर्षमय जीवन में राम की छबि है और राम की गाथा उसके जीवन की सम्पूर्णता की गाथा है-जो कभी पूरी नहीं होती,पूर्ण से पूर्णतर होने के लिए नित नयी होती रहती है।राम की शाश्वत लीला मात्र लीला नहीं है,एक जीवंत घटना है,जिसमें राम तो बार-बार घटित होते ही रहते हैं,भक्त की भक्ति भी निरंतर घटित होती है।राम का नया अभिषेक होता है तो राम में जीने वाला भक्त भी उस अभिषेक का एक घट बनकर पवित्र बन जाता है। 

          राम की लीला साधारण अनुष्ठान नहीं है,एक महा जाति के कठिन तप की परिणति है,कोटि-कोटि उपवासों का पारण है,भक्ति की धारा प्रवाह वर्षा की झंकार है,अपने शरीर,इन्द्रीय-मन को मांजने की तैयारी है।इस भक्ति यज्ञ के होता के रूप में हम आपको आमंत्रित करते हैं।  

          "सांस्कृतिक संगम" सलेमपुर की "रामायण मंचन" हर बार एक नए आयाम में प्रस्तुत की जाती रही है।रंगमंच के सिद्ध कलाकारों द्वारा इनकी प्रस्तुतिओं के रस में डूबकर आप निश्चय ही रस कलश में डूब जायेंगे। 

-----------------------------------------------

             A true devotee would never get disgusted at any point of time, nor get bored, tired or vexed listening and viewing to the same spiritual teachings. You may perhaps be hearing and watching the same message over and over again from Ramayana,Krishna katha,Bhagawata ! How do you rationalize this? Don’t you take food repeatedly for the same stomach, several times during your lifetime? Don’t you wash the same face many times in a week? That music,which you consider as pleasurable, don’t you listen to it, many times frequently? Consider an even simpler example: you drink coffee or tea – have you ever got bored of it despite consuming it for 15 or 20 years? You perhaps wait for that cup with excitement and enthusiasm, and will even get a headache if it is delayed by a couple of minutes! Similarly, it is essential to listen and watch to such spiritual instructions, ruminate and experience the joy of devotion without the slightest feeling of disinterestedness.

           


HARISHCHANDRA-TARAMATI

        One of the famous epic drama on truthfulness,It is well known to Indians that Mr.Mohandas Karamchand Gandhi after watching this stage play,he realised the power of truthfull ness and remained with it.Played 29 times at various places.         

Language...Hindi.             Director...Manvendra Tripathi. Writer....Manvendra Tripathi                     Duration....2.30 Hrs          Genre....Musical--Drama . 

      Raja Harishchandra was a very honest king. He was known never to tell a lie. Once,Vishwamitr came to test his faith.He came in his dream and asked his kingdom in charity..and physically appeared before and told Harishchandra to simply leave the palace be cause he donated in dream.He walked off with just his wife and son.Now the Vishwamitra disguised as a priest asked him to give him a donation (Dakshina) of half a kilo of gold.The king had left everything behind so how could he produce this wealth? Vishwamitr would not hear of it. He said he could grant him time but he must give him the dakshina.So he promises to work and give the half kg of gold in a months time.Harishchandra and family reach another kingdom and go looking for workThey any how save the required dakshina, with their hard work.But Vishwamitr cleverly by his trick get  that  stolen.Atlast getting more time for giving dakshina they sale themselves in serfdom market and recieve the required amount of gold coins which in the form of dakshina they handover to Vishwamitr.Harishchandra got a job at a cremation ground. His wife Taramati got a job at a Pandits house whose wife is very jealous of her beauty status,so she gives her difficult tasks to do every day.Their son Rohitdas (Roidas) is appointed to pluck flowers for the prayer every morning.One day their son gets bitten by a snake in the garden while he is plucking the flowers for the master.Taramati runs around trying to find a cure for the snakebite.No help is given.The son dies.She takes the son to the cremation ground.Her husband refuses to cremate the child without being paid the duty fees.Taramati asks Harischandra to not having to pay any thing except her cloth which she was wearing,While all this is going on and she was about to torn the piece of cloth,Vishwamitr appears and revives his son and takes back his promise returns his kingdom and past glory to him. 

CAST AND CREW.

---------------------------

Manvendra Tripathi as Harishchandra.20 actors on stage and 6 off stage..Singer...Ramdaras sharma..Music...Manoj Tripathi,Pintu,Ashok valmiki,J.PMani,Lght & Sound...Pradeep & Sandeep..Stage...Balinder.

SAINYA BHAYE KOTWAL
    Sainya bhaye kotwal,is basiacally written and played in Marathi language, we presented it in local regional language.Though story looks very old but still it keeps contemporary issues nepotism,corruption,admistrative system etc.This play has been performed 29 times till this date.

MEMOIRS OF TEAM ARTIST AT OFF-STAGE 

                                      DRAWN OIL FROM THE DESERT
          वे सभी जो कला के प्रति थोडी सी भी रुचि रखते हो, उन में से अभिनय कला को बाहर व्यक्त करने की क्षमता को उत्पन्न करना, पूर्वांचल जैसी कला की मरुभूमि से कलाकारों को तैयार कर उन्हे विशाल मंचो पर उतारना,पारितोषिक सहित सम्मान प्राप्त कराने का कार्य का श्रेय मात्र "सांस्कृतिक संगम" के निर्देशक मानवेंवेंद्र त्रिपाठी को है,ऐसा यहाँ कि जनता का कहना है।सच में यह कार्य रेगिस्तान से तेल निकालने जैसा ही लगता हैँ। यह दुरूह कार्य मात्र  मानवेन्द्र त्रिपाठी से ही संभव हो सका, ऐसा मेरा भी मानना है।   
वाई शंकर मूर्ति .
         

        HOME
   MANVENDRA TRIPATHI
 ACTOR/DIRECTOR/WRITER/  SECRETARY

CONTACT US
 
Sanskritik Sangam Salempur 
Menaka Picture Palace                 Compound
Chero Road,Salempur,Deoria
Uttar Pradesh.274509.
ManvendraTripathi, DIRECTOR     Mobile.9956558907

        
   SANSKRITIK SANGAM            PERFORMS ALL DRAMA'S AND PLAYS WITH SOCIAL           RESPONSIBILITY IN DIFFERENT DIMENSION THROUGH SPONSOR'S,OURSELVES & HANDSOME ORGANIZER'S
             

       Y SHANKER MURTI
 PRODUCER AND PRESIDENT               Mobile.9838669975        


राम लीला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से


रामलीला का एक दृश्य।

रामलीला उत्तरी भारत में परम्परागत रूप से खेला जाने वाला राम के चरित पर आधारित नाटक है। यह प्रायः विजयादशमी के अवसर पर खेला जाता है।


अनुक्रम  [छुपाएँ] 

1 इतिहास

2 रामलीला के प्रकार

3 प्रसिद्ध रामलीला-स्थल

3.1 दिल्ली की रामलीला

4 इन्हें भी देखें

5 बाहरी कड़ियाँ

इतिहास[संपादित करें]

समुद्र से लेकर हिमाचल तक प्रख्यात रामलीला का आदि प्रवर्तक कौन है, यह विवादास्पद प्रश्न है। भावुक भक्तों की दृष्टि में यह अनादि है। एक किंवदंति का संकेत है कि त्रेता युग में श्री रामचंद्र के वनगमनोपरांत अयोध्यावासियों ने चौदह वर्ष की वियोगावधि राम की बाल लीलाओं का अभिनय कर बिताई थी। तभी से इसकी परंपरा का प्रचलन हुआ। एक अन्य जनश्रुति से यह प्रमाणित होता है। कि इसके आदि प्रवर्तक मेघा भगत थे जो काशी के कतुआपुर महल्ले में स्थित फुटहे हनुमान के निकट के निवासी माने जाते हैं। एक बार पुरुषोत्तम रामचंद्र जी ने इन्हें स्वप्न में दर्शन देकर लीला करने का आदेश दिया ताकि भक्त जनों को भगवान के चाक्षुष दर्शन हो सकें। इससे सत्प्रेरणा पाकर इन्होंने रामलीला संपन्न कराई। तत्परिणामस्वरूप ठीक भरत मिलाप के मंगल अवसर पर आराध्य देव ने अपनी झलक देकर इनकी कामना पूर्ण की। कुछ लोगों के मतानुसार रामलीला की अभिनय परंपरा के प्रतिष्ठापक गोस्वामी तुलसीदास हैं, इन्होंने हिंदी में जन मनोरंजनकारी नाटकों का अभाव पाकर इसका श्रीगणेश किया। इनकी प्रेरणा से अयोध्या और काशी के तुलसी घाट पर प्रथम बार रामलीला हुई थी।


रामलीला के प्रकार[संपादित करें]

रंगमंचीय दृष्टि से रामलीला तीन प्रकार की हैं - सचल लीला, अचल लीला तथा स्टेज़ लीला। काशी नगरी के चार स्थानों में अचल लीलाएँ होती हैं। गो. तुलसीदास द्वारा स्थापित रंगमंच की कई विशेषताओं में से एक यह भी है कि स्वाभाविकता, प्रभावोत्पादकता और मनोहरता की सृष्टि के लिए, अयोध्या, जनकपुर, चित्रकूट, लंका आदि अलग-अलग स्थान बना दिए गए थे और एक स्थान पर उसी से संबंधित सब लीलाएँ दिखाई जाती थीं। यह ज्ञातव्य है कि रंगशाला खुली होती थी और पात्रों को संवाद जोड़ने घटाने में स्वतंत्रता थी। इस तरह हिंदी रंगमंच की प्रतिष्ठा का श्रेय गो. तुलसीदास को और इनके कार्यक्षेत्र काशी को प्राप्त है।


गोपीगंज आदि में भरतमिलाप के दिन विमान तथा लागें निकाली जाती हैं। इलाहाबाद के दशहरे के अवसर पर रामलीला के सिलसिले में जो विमान और चौकियाँ निकलती है, उनका दृश्य बड़ा भव्य होता है।



रामलीला के कलाकार

लीला के पात्र, किशोर, युवा, प्रौढ़ सभी होते हैं। सीता या सखियों की भूमिका आज तक किशोर द्वारा ही संपन्न होता है। रामलीला के सभी अभिनेता प्राय: ब्राह्मण होते हैं, किंतु अब कहीं कहीं अन्य वर्णों के भी लोग देखे जाते हैं। पात्रों का चुनाव करते समय रावण की कायिक विराटता, सीता की प्रकृतिगत कोमलता और वाणीगत मृदुता, शूर्पणखा की शारीरिक लंबाई आदि पर विशेष ध्यान रखा जाता है। लीलाभिनेता चौपाइयों, दोहों को कंठस्थ किए रहते हैं और यथावसर कथोपकथनों में उपयोग कर देते हैं।


रामलीला की सफलता उसका संचालन करनेवाले व्यास सूत्राघार पर निर्भर करती है, क्योंकि वह संवादों की गत्यात्मकता तथा अभिनेताओं को निर्देश देता है। साथ ही रंगमंचीय व्यवस्था पर भी पूरा ध्यान रखता है। रामलीला के प्रांरभ में एक निश्चित विधि स्वीकृत है। स्थान-काल-भेद के कारण विधियों में अंतर लक्षित होता है। कहीं भगवान के मुकुटों के पूजन से तो कहीं अन्य विधान से होता है। इसमें एक ओर पात्रों द्वारा रूप और अवस्थाओं का प्रस्तुतीकरण होता है, दूसरी ओर समवेत स्वर में मानस का परायण नारद-बानी-शैली में होता चलता है। लीला के अंत में आरती होती है।


काशी में शूर्पणखा की नाक काटे जाने के बाद खर-दूषण की सेना का जो जुलूस निकलता है उसमें जगमग करते हुए विमान तथा तरह-तरह की लागें निकलती हैं जिनमें धार्मिक, सामाजिक दृश्यों, घटनाओं की मनोरम झाकियाँ रहती हैं। साथ में काली का वेश धारण किए हुए पुरुषों का तलवार संचालन, पैतरेवाजी, शस्त्रकौशल आदि देखने लायक होता है।


रामलीला में नृत्य, संगीत की प्रधानता नहीं होती क्योंकि चरितनायक गंभीर, वीर, धीर, शालीन एवं मर्यादाप्रिय पुरुषोत्तम हैं। परिणामस्वरूप वातावरण में विशेष प्रकार की गंभीरता विराजती रहती है। इस लीला की पहले मंडली नहीं होती थी अब कुछ पेशेवर लोग मंडलियाँ बनाकर लीलाभिनय से अर्थोपार्जन करते हैं। भारत के ग्वालियर, जयपुर, इलाहाबाद आदि नगरों में इसका मूक अभिनय (dumbshows) होता है।


पूर्वी उत्तर प्रदेश के देवरिया जिले में सलेमपुर की 

------------------------------------------------------"सांस्कृतिक संगम" संस्था द्वारा रामायण का मंचन

------------------------------------------------------एक नए आयाम में प्रस्तुत किया गया है।इस संस्था

------------------------------------------------------- का उद्देश्य आजकल रामायण, या रामलीला के नाम से मात्र कमाई का माध्यम बनाने में भाषा की शुद्धता पर ध्यान कम देकर,अश्लीलता का प्रयोग कर समाज को भ्रमित करने वालों के विरुद्ध एक अभियान की तरह कार्य आरम्भ कर आस-पास के क्षेत्रों में ख्याति प्राप्त की है। यह संस्था "रामलीला" शब्द का प्रयोग न कर रामायण मंचन के नाम से प्रस्तुति देती है, ताकि इसमें अच्छे कुलीन घर के लोग,स्त्री एवं पुरुष, दूरदर्शन व सिने कलाकार भी सम्मिलित होकर यह पुनीत कार्य कर सके। इसमें ६० कलाकार भाग लेते हैं। गायक मंडली के साथ प्रकाश एवं ध्वनि की व्यवस्था साथ लिए सोनपुर के मेले में भी विगत 3 वर्षों से मेले में आकर्षण के केंद्र बने।


दर्शकों को अर्थ, धर्म, काम, मोक्ष चारों फलों की प्राप्ति होती है। रामलीला देखने से भारतेंदु हरिश्चंद्र के हृदय से रामलीला गान की उत्कंठा जगी। परिणामत: हिंदी साहित्य को "रामलीला" नामक चंपू की रचना मिली।


प्रसिद्ध रामलीला-स्थल[संपादित करें]

रामलीला का मूलाधार गोस्वामी तुलसीदास कृत "रामचरितमानस" है लेकिन एकमात्र वही नहीं। श्री राधेश्याम कथावाचक द्वारा रचित रामायण को भी कहीं-कहीं यह गौरव प्राप्त है। ऐसे काशी की सभी रामलीला में गोस्वामी जी विरचित "मानस" ही प्रतिष्ठित है। इस लोक आयोजन के लिए वर्ष भर दो माह ही अधिक उपयुक्त माने गए हैं - आश्विन और कार्तिक। ऐसे इसका प्रदर्शन कभी भी और कहीं भी किया जा सकता है। काशी के रामनगर की लीला भाद्रपद शुक्ल चौदह को प्रारंभ होकर शरत्पूर्णिमा को पूर्णता प्राप्त करती है और नक्खीघाट की शिवरात्रि से चैत्र अमावस्या अर्थात् 33 दिनों तक चलती है। गोस्वामी तुलसीदास अयोध्या में प्रतिवर्ष रामनवमी के उपलक्ष्य में इसका आयोजन कराते थे। कहीं दिन के अपराह्न काल में और कहीं रात्रि के पूर्वार्ध में इसका प्रदर्शन होता था।



काशी के रामनगर की रामलीला काशी नरेश के सामने होती है। इसकी समाप्ति रावण के पुतले के दहन के साथ होती है। (जेम्स प्रिंसेप १८३४)

लोकनायक राम की लीला भारत के अनेक क्षेत्रों में होती है। भारत के बाहर के भूखंडों जैसे बाली, जावा, श्री लंका आदि में प्राचीन काल से यह किसी न किसी रूप में प्रचलित रही है। जिस तरह श्रीकृष्ण की रासलीला का प्रधान केंद्र उनकी लीलाभूमि वृंदावन है उसी तरह रामलीला का स्थल है काशी और अयोध्या। मिथिला, मथुरा, आगरा, अलीगढ़, एटा, इटावा, कानपुर, काशी आदि नगरों या क्षेत्रों में आश्विन माह में अवश्य ही आयोजित होती है लेकिन एक साथ जितनी लीलाएँ नटराज की क्रीड़ाभूमि वाराणसी में होती है उतनी भारत में अन्यत्र कहीं नहीं। इस दृष्टि से काशी इस दिशा में नेतृत्व करती प्रतीत होती है। राजस्थान और मालवा आदि भूभागों में यह चैत्रमास में ससमारोह संपन्न होती है। वीर, करुण, अद्भुत, शृंगार आदि रसों से आप्लावित रामलीला अपना रंगमंच संकीर्ण नहीं वरन् उन्मुक्त, विराट, प्रशस्त स्वीकार करती है। कहीं भी किसी मैदान में बाँसों, रस्सियों तारों आदि से घेरकर रंगमंच और प्रेक्षागृह का सहज ही निर्माण कर लिया जाता है।


दिल्ली की रामलीला[संपादित करें]


रामलीला मैदान के रामलीला (२०१२) का एक दृश्य

दिल्ली में रामलीलाओं का इतिहास बहुत पुराना है। दिल्ली में, सबसे पहली रामलीला बहादुरशाह ज़फर के समय पुरानी दिल्ली के रामलीला मैदान में हुई थी। लवकुश रामलीला कमेटी, अशोक विहार रामलीला कमेटी आदि दिल्ली की प्राचीन रामलीलाओं में से हैं। श्री राम भारतीय कला केन्द्र द्वारा रामलीला का मंचन तीन घंटों में दर्शाया जाता है। यहाँ की रामलीला में पात्रों की वेशभूषा दर्शनीय है। इनके अतिरिक्त दिलशाद गार्डन रामलीला, मयूर यूथ क्लब मयूर विहार-1 रामलीला, सूरजमल विहार रामलीला आदि भी दिल्ली की चर्चित रामलीलाओं में से हैं।


रामलीलाओं में छविलाल ढोंढियाल द्वारा लिखित "रामलीला" पुस्तक बहुत प्रचलित पुस्तक है। अधिकतर रामलीलाएँ इसी पुस्तक पर आधारित हैं।


इन्हें भी देखें[संपादित करें]

रामायण

रासलीला

लीला

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

रामलीला की वैश्विक परम्परा (पाञ्चजन्य)

क्या है रामलीला? (दैनिक भास्कर)

रामलीला: कितने रंग, कितने रुप

विदेशों में रामलीला

विश्व की प्रथम रामलीला (हिन्दी नेस्ट)

प्रेमचंद की कृति रामलीला

रामलीला के बारे में यूनेस्को साइट

WE RECOGNISED AS THE INTER-NATIONAL FAME FOR RAMAYANA
PRESENTATION

"Ramayana"the seven days to 9 days,daily 3 hours of this open stage play has become a mile stone for us,comprising 70 artist with Light and sound team,Live Singers accompaniedwith tabla,Naal,Shehnaai,Synthesiser and Pad players,Not only 30 to 40 thousand audience watch at a time in interior places,But cities like Deoria, Gorakhpur and Sonpur Fair witnessed this stage play as watching a TV serial..39 times played at various places.

SRI 
KRISHNA KATHA

Well known to all over world.Sri Krishna's birth and his services to society through his Action and Knowledge.the eternal law of the cosmos, inherent in the very nature of things are  expressed through this stage play.4 times played till the date

INDIA TODAY MAGZINE COVERED FIRST PAGE

 OUR TEAM ARTIST'S SINCE 2005

OUR ACTVITIES IN MEDIA

                  PLAYED PLAYS
                                                                          सांस्कृतिक संगम द्वारा दी गयी                              प्रस्तुतियाँ.
                       ------------------------
१. मेघदूत की पूर्वांचल यात्रा .
२. रामायण ( ७ व ९ दिवसीय ).
३. ढाई आखर प्रेम का .
४. सैंया भये कोतवाल .
५. क़प्तान साहेब .
६. बड़े भाई साहेब .
७. कफ़न .
८. बकरी .
९. सत्गति .
१०.जागो ग्राहक जागो.  .
११. किस्सा एक अजनबी लाश का. 
१२. गबर घिचोर
१३. भोला राम का जीव
१४. क ख ग का चक्कर
१५. बूढी काकी
१६. गुल्ली डंडा
१७. हरिश्चंद्र तारामती
१८. उठो अहिल्या
१९. शिरडी के साईं बाबा
२०.भागवत कथा (सात दिवसीय )
२१. श्री कृष्णा कथा
-----------------------
FORTH COMING PLAYS
-----------------------
आगामी  प्रस्तुतियाँ
-----------------------
१.  मेघदूत की पूर्वांचल यात्रा (भाग २ )
२. सोलह संस्कार
३. कैकेयी
४. स्वामी विवेकानंद
५. शिव विवाह
-----------------------

 Sanskritik Sangam, conducts theatre work shops at various interior places and schools in summer holidays and for their annual functions. Institutional Masters team reaches at schools and train the children to perform the educative, social and contemporary issues, and message giving dramas and high spirited dances of classical,folks and westerns.


विद्यार्थियों के लिए पाठशालाओं मैं रंगमंचीय                        प्रशिक्षण 

              ---------------------------------------------

      रंगमंच या नाट्य मंच के माध्यम से बालको  में एक  दूसरे  से  भावनात्मक  बातचीत द्वारा प्रभावी रंगमंचीय कक्षाएं ,कार्यशालाओं में बालको द्वारा नाटको की प्रस्तुतियां ,पूर्णतः बच्चों को खेल खेल में ही नाट्क क़ी तैयारी  के साथ साथ व्यक्तित्व विकास पर ध्यान दिया जाता  है।

१. ध्यान पद्धति 

२. कल्पना शक्ति उदाहरणों द्वारा

३. आत्म  विश्वास,कार्य में भाग लेकर 

४. सहभागिता भiव 

५. संवाद-कौशल 

६. सांस्कृतिक चेतना 


रंगा रंग मंच

--------------

     कार्यशाला को तीन भागों में विभाजित किया गया  है। प्रत्येक रंगमंचीय भाग बच्चों के  सर्वांगीण विकास एवम सामाजिक कौशलता में सहायक होतi है। 

१. शारीरिक खेल 

--------------

     शारीरिक खेल मैं बाल नृत्य,योग एवम तीव्र शारीरिक खेल होते है।जिससे बच्चों के शरीर में उत्साह,आत्मविश्वास, संवेदनशीलता एवम शारीरिक हाव भाव में तीव्र प्रतिक्रिया व्यक्त करने की योग्यता व् शालीनता व्यक्त होती है। 

२. स्पष्ट ध्वनि एवम उच्चारण खेल 

-----------------------------

      स्पष्टवादिता एवम स्पष्ट उच्चारण,मूल गीतों, साहित्यिक नाटकों  एवम कविताओँ को खेल खेल में पढ़ाया व गवाया जाता है। इस मंच से विद्यार्थियों की स्मरण शक्ति,शब्द ज्ञान,उच्चारण ज्ञान वअपने आवाज पर नियंत्रण,प्रदर्शन एवं प्रक्षेपण की दक्षता प्राप्त होती है। हमारा उद्देश्य बच्चों  द्वारा स्पष्ट,दृढ़तापूर्वक,आत्मविश्वास के साथ आँखों से आँखें मिलाकर अपनी बात बच्चोँ से ही नहीं अपने से बड़ों से भी  निर्भयता पूर्वक बात कर सकें। 


३. भूमिका (चरित्र) खेल 

------------------

अपनी भूमिका व कर्तव्य का निर्वहन अपनी कल्पना द्वारा,आशुरचना करना,निखार लाना होता है।विद्यार्थियों द्वारा अपने विशद एवम जीवंत कल्पनाओं को दूसरे के समक्ष प्रस्तुत करने की दक्षता प्राप्त कर,अपने आसपास के परिस्थितियों के अनुसार नये चरित्र का निर्माण करने क़ी कला सीखता है।वे किसी भी परिस्थितियों में अपनी   रचनात्मक कला द्वारा परिस्थितियों को अनुकूल बनाये रखने की शिक्षा प्राप्त करते हैं। 

                        --------------------

कला और सृष्टि

        कला सृष्टि से पहले विश्व सृष्टि हुई,विश्व सृष्टि में चल और अचलदोनों विधाएं हैं,चल,काल को दर्शाते हैं,अचल,स्थल को.स्थल स्थिति के और काल गति के प्रतिनिधिओं की तरह स्थापित हैं। ,

        कला सृष्टि में काल और स्थ ल प्रधान है,इसमें चल कलाएं औरअचल कलाएं हैं, संगीत,कविता,काव्य, नाट्य यह चल कलाएं हैं चित्र, शिल्प,वास्तु सभी अचल कलाएं,इसीलिए संगीत,कविता,नाट्य आदि काल से सम्बंधित है, शिल्पकला,वास्तुकला,चित्रकला,हस्तकला इत्यादि स्थल से सम्बंधित है यही स्थान काल विशेष के सौंदर्य अलंकार संस्कृति  के द्योतक हैं....

          ललित कलाओं  एवं  व्यवहारिक  कलाओं को व्यावसायिक कलाओं जैसा विभाजन करने वाली पाश्च्यात  दृष्टि भारतीय चेतन के विकास क्रम  कीउस दृष्टि से अपरिचित रही है जो पदार्थ से परमार्थ की और जाने के लिएक्रमशः तत्त्व से महत्व तथा परमतत्व तक पहुँच कर परात्पर से सुन्दर आकारऔर आनंद गुंजार को ललित कला कराती है,वैसे ललित कलाओं को आज की भारतीय परिवेश में मात्र चित्रकला या वास्तु कला तक ही सीमित समझा जाता  है....परन्तु ऐसा नहीं है ...

         आदि मनीषी अगस्त्य ॠषी की पत्नी लोपमुद्रा ने अपने श्रीललिता सहस्र नामावली स्तोत्र में ललिता  देवी को  चतुश्शाष्टि (चौंसठ )कलामयी कहकर स्तुति की है. ललित कला  वह कला एवं विद्या है जिसको व्यक्त करने में सौंदर्य की अभिव्यक्ति होती है,आदि शंकराचार्य ने भी  इसी स्तोत्र के आधार पर सौदर्य लहरी की रचना की  ..

        .. इन चौंसठ कलाओं की दृष्टि हमारे मनीषियों ने दी है,चित्र,मूर्ति ,काव्य और वास्तु जैसी पञ्च ललित कलाओं और उनसठ उपयोगीकलाओं की और दृष्टि  पात करें  तो चौदह विधाओं के तत्व विभिन्न पदार्थोंके आकार -प्रकार द्वारा सुख -सुविधा ,कौशल ,उपयोगिता,क्षमता,शील,सामर्थ्य,आकर्षण और सौंदर्य रचने की शिक्षा एवं चेतना का उत्तरोत्तर आगे बढ़ने की इच्छा का दर्शन होता है। पदार्थ द्वारा सुखार्थ की रचना और बिना पदार्थ के ललितार्थ पाकर मानव मन आनंदित होगा ही..जीव की मानसिक चैतन्य काया ललित कला है सृजन ,वंदन, के योग- संयोग और प्रयोग के परिणाम स्वरुप  मोक्षानुभूति  के रमण  द्वारा ललित कला में डूबने वाला ही पार

उतरता है

                 भारतीय कलाएं विश्व कलाओं का एक भाग है .भारतीय कालोंमें उत्तर भारतीय कलाएं एक भाग है अतः विश्व कलाओं में एक भाग उत्तर भारतीय कला हुई यह भी सत्य है सभी  देशों की कलाएं  एक सी नहीं होती..जिसकी सृष्टि उसी को  प्यारी प्रत्येक देशों की कलाएं अन्य देशों की कलाओं में एकत्व्ताएं-भिन्नताएं भी गोचर होंती हैं अतः उत्तर भारतीय कलाएं भी वही है /यहाँ उत्तर भारतीय कलाएं और संस्कृति अन्य संस्कृतियों व कलाओं से उत्कृष्ट है कहना संकुचितता  का ध्योतक  है .इस विशाल जगत में प्रत्येक जातियां एक प्रत्येकता लिए हुए है हर एक संस्कृति में एक विशेष संस्कृति विद्यमान है .हर कला एक विशेष कला है इसमें कोई भी मात्र उत्कृष्ट  नहीं है . उत्तर भारतीय कलाएं भी बहुत प्राचीन है उत्कृष्ट भी

हैं .....प्राचीन है इसलिए उत्कृष्ट है समझना  नहीं चाहिये ...प्राचीन कलाओं  में भी कुछ उत्कृष्ट हो सकते  हैं ...निकृष्ट भी हो सकते हैं...उत्कृष्टता है इसलिए उत्कृष्ट है ....उत्तर  भारतीय कलाओं में   आज हिंदुस्तानी संगीत के  आधार पर कत्थक नृत्य ,कव्वाली कुछ एक लोकगीत  के अलावा  भक्ति गीतों में रसिया (पश्चिम में राधा कृष्ण  पर आधारित )गीत या निर्गुन  में भक्ति गीत हीमात्र  शात्रीय विधाओं में गाये  जाते हैं .बाकी लोक गीत ही अधितम प्रचलित है  जिसमे शाश्त्रीय संगीत  की आवशयकता  नहीं होती .शाश्त्रीयगीतों को सुनाने वाले हैं पर सुनने वाले  प्रायः समाप्त ही हैं..अन्यकलाओं में नौटंकी  विधा भी लोगों को भाति नहीं है,आल्हा गायक कोई रहानहीं ,बिरहा तो अब गाने वाले बिरले ही हैं ...नाट्य रूप में रामायण की रामलीला रसविहीन होकर रह गयी ,उसे मात्र दान-दक्षिणा लेने का धंदा जैसा प्रतीत होता है......रासलीला.कृष्णलीला,शिव लीला ,श्याम महोत्सव आदिके नाम पर कुछ फ़िल्मी धूनों  पर मंच पर इधर से उधर मात्र  दौड़ते नजर आते हैं,इन सभी विधाओं से साहित्य ,का सौंदर्य ,गीतों की मधुरता,ध्वनि  की धमक,बाँसुरी  व शहनाई की मधुर प्राकृतिक  कर्ण प्रिय राग सुनाई  नहीं देती है पूर्वी उत्तर प्रदेश में तो और ही बुरा हाल है,कहीं भी देखो ऋतु गीतों में कजरी,सोहर,बिरहा ,चैती ,चैता सावनी या कवी सम्मलेन...नृत्य देखना दिखाना हो तो एक हेमा मालिनी  या  राजस्थानी व डांडियाको अन्य प्रदेश से बुलवा कर  पीठ ठुकवा लेते हैं  कला के नाम पर जो अलबम बनI रहे हैं अश्लील गीतों से इस प्रांतीय युवाओं को पथ भ्रष्ट  किया जारहा है .फिल्मों का हाल उस से भी बदतर ....विद्या संस्थाओं  में बच्चोंके  सांस्कृतिक कार्यक्रमों  में सिर्फ और सिर्फ फ़िल्मी गाने ही नजर आतेहैं ....फिल्मी नृत्य  तो और भी  असभ्य .... कला के साधक नजर नहीं आते...संगीत के साधक,साहित्य के साहित्यकार ,गीतों के गीतकार गायनी के गायक,वाद्य यंत्रोंके वादक ,सिन्थेसैसर  व पैड  क्या पा गए ,सारेनाद,श्रुति,स्वर ,थाट  व राग  की पूर्ति कर लेने के भ्रम पाल लिए जनता को तो धांय धांय आवाज  चाहिए जनता क्या जाने राग स्वर श्रुति और धुन..सभी शार्ट कट रास्ते  अपना लिए है ..हिंदुस्तानी,संगीत,कर्नाटक,संगीत(जिसे उच्च कोटि का मानते हैं)  से अलग है ही नहीं वह भी भारतीय संगीत ही है जो वैदिक  काल से सामवेद के उपवेद गन्धर्व वेद  के नियमों  व    सिद्धांतों ..के आधार पर ही बने हैं..दोनों संगीत को मुगलों ने आकर विभाजित किया वर्ना दोनों संगीत पद्धति की आत्मा एक ही है ..पर वैदिक काल में  यह संगीत  सिद्धांत  भी लोक गीतों के  आधार  व माध्यम  से ही  बने ..इसलिए लोक गीत व संगीत अपने आप में मधुरता  लिए होते हैं

       मुगलों  के आक्रान्ताओं ने   नौ से दस शताब्दी पूर्व  हिन्दू संस्कृति की सारी सभ्यता को ही नष्ट कर दिया ,मंदिर तो मंदिर घर के अन्दर घुस घुस के स्त्रियों से दुराचार व  ,पुरुषों को धर्म परिवर्तन ,धार्मिक व संस्कृति के सारे पुस्तक ग्रन्थ जला  डाले   गये इसकी यातना अधिक तम भारत में उत्तर भारतियों को ही झेलना पड़ा ...परिणाम स्वरुप  या तो स्त्रियों को जन्म देना बंद हुआ या उन्हें शिक्षा दीक्षा से दूर कर दियागया ऐसे में कलाएं तो कोसों दूर की कौड़ी थी ...और  जो साधक थे या जिनकीवृत्ति ही नाट्य नृत्य संगीत था वे मुगलों के मनोरंजन के साधन बने. तब सेही ख़याल, गजल ,शायरी ,कव्वाली  पैदा हुए I

       अंग्रेजों का जुल्म तो और भी भयंकर था सीधे भारतीय संस्कृति परही चोट करने की मन्शा से भारतीय संस्कृति के तत्वों  और प्रतीकों को चुनचुन कर अपमानित किया ...राम और कृष्ण को काव्य कल्पना बताया ,,संस्कृतिको धर्म बताया ...धर्म को मजहब के बराबर खडा किया ... भारत के राष्ट्रजीवन का शील ,मर्यादा ,संय म और आचार -विचार -व्यवहार प्रगति विरोधी करार दिया अंग्रेज भक्त क्लर्क  बनाने वाली शिक्षा पद्धति थोपी .....लार्डमैकाले  की कुत्सित विचारों द्वारा देश भक्ति के खात्मे वाली  शिक्षा की रूप रेखा बनायी..,.स्वाधीन भारत आज भी मानव संसाधन के नाम पर मनुष्य  को मैन  पॉवर  व सूचनाओं का यन्त्र  बना रहा है विवेक व ज्ञान की शिक्षा पद्धति समाप्त हो गयी है ..... मनुष्य तनाव ग्रस्त हो गए है...पशुवतहो गए हैं।। ...........................................

    न वेत्त शाश्त्र वित्कर्म ,न शाश्त्र  मपि  कर्मवित

    यो वेत्ति  द्वय मप्येतत ,सह चित्र  करो वरः

 भोज महाराज  अपने एक चर्चा में चित्रकर्मा  से कहते हैं कि शास्त्र ज्ञानी को कर्म ज्ञान की अभाव ,कर्म ज्ञानी को  शाश्त्र ज्ञान की कमी होने के इतर जो शाश्त्रज्ञान व कर्म ज्ञान  में समान प्रज्ञा-वान हों  वे ही उत्तम कलाकार  हो सकते हैं 

    संगीत साहित्य कला  विहीनाः साक्षात्पशु:  पुच्छ विषाण  हीनः

   ते मर्त्य लोके भुविभार भूतः  मनुष्यरूपेंण मॄगाश्चरन्ति :

   जो मनुष्य सगीत साहित्य कला से विहीन है वे साक्षात् पशु  के समान है,यद्यपि उनके सींग और पूँछ नहीं होते फिर भी वे पशु समान  है

       कला का ,समकालिक जीवन  का परस्पर सम्बन्ध किंचित मात्र भी नहीं है या  रहना नहीं चाहिए ऐसा किसी ने नहीं कहा है ,लेकिन यह सम्भन्ध कैसा हो  ,कहाँ तक यह सम्भन्ध स्पष्ट ,विदितमय हो  ,कहाँ तक गुप्त हो और व्यंगात्मक होना चहिये,यदि हो तो युक्तायुक्त होने की चर्चाओं में अभिप्राय भेद हो सकते हैं .यह अभिप्राय किसी एक युग में विद्यमान दूसरे युग में भिन्न रूप में होना सदा  इतिहास में दिखाई दे सकता है I

          कलाकार निरंकुश ही होता है'''...कला भी नियम रहित होता है ....अनन्य परतंत्र  भी है ....ह्लादैकमय या आल्हादमय हो सकता है किन्तु कोई भी कृति निर्माण मात्र कलाकार के लिए नहीं होता है

...सह्रिदयीयों को भी उसके सौन्दर्य आस्वादन ,अनुभूति मयी  व आनंदित होने पर ही वह कला कृति सफल होती है अतः वस्त,स्वरुप   शैली ,वर्ण समकालिकों को आकर्षित कर आनंद पहुंचाए बिना कला कृति निरुपयोगी और निरर्थक होगा ...मानव -प्रकृति में भले बदलाव न आया हो ,जीवन की अवस्थाएं भले न बदली हों ,मानव स्वभाव सर्वसामान्य होने पर भी ...आचार , विचार,व्यवहार ,आशाएं ,आदर्श ,जीवनविधायें  बदलती रहती हैं ...व्यक्ति हो, संस्था हो ,समाज हो ,प्रान्त हो ,देश हो परिवर्तन तो सहज लक्षण है...भौतिक  प्रपंच मे ..प्रति क्षण परिवर्तन है ही ,जीवन प्रपंच में भी वैसा ही है सामाजिक जीवन में भी  कालानुगत परिवर्तन  होते ही रहते हैं,राजकीय स्तर सा,आर्थिक स्तर सा पारमार्थिकस्तर सा ही कलाओं  में भी परिवर्तन  हुए बिना नहीं रह सकता है .....कलाकार स्वतंत्र  होता है ....सृष्टि कर्ता  या सृजन कर्ता होता है ...तब भी समकालिक परिस्थितिओं का परवर्ती है। कलाकार को ,जीवन से ,समाज से ,सन्निहित सम्बन्ध तो रखना ही पड़ता है ,अनादि से यह सम्बन्ध है ,भी ...सभी देशों में ,सभी कालों में अपनी प्राचीन कला भी देश

-काल  के गुणों से ही प्रकट हुई है हवा में  से तो  नहीं ही आई ...उस उस काल के राजकीय परिस्थितिओं ,मत परिस्थिति ,,देश परिस्थितिओं के कारण

आविष्कृत हुई हैं हमारी कलाएं .....

                कला  जीवन से दूर नहीं होना चाहिए ,जब यह दूर हो जाएगा तब निर्जीव  होकर शुष्क होकर नाश हो जायेगी ..कला  वर्तमान  जीवन का प्रतिबिम्ब है ...कला को समकालिक जीवन ही आधार है ...समकालिक का अर्थ संकुचित अर्थों के  भाव से नहीं लेना चाहिए  ..प्रतिबिम्ब का अर्थ वार्ता पत्रिकाओं  के समाचार ,न्यूज़ रील जैसा नहीं लेना चाहिए ...क्या  क्या

,कैसे कैसे  भाव ,कैसे कैसे आदर्श ,कैसे कैसे संघर्ष ,कैसी कैसी समस्याएं यथार्थ जीवन में भरे होते हैं वह सभी कला के लिए सामग्री ही हैं ,इसी के क्रम में  इसी के अनुगुण - अवगाहित  होने वाले अच्छी  कहानियां , पूर्व के इतिहास में घटित घटनाओं ,पौराणिक वाङ्गमयो, उपनिषदिक  उपदेश -गाथाएँ ,भविष्य के स्वप्न इत्यादि कला कृति के लिए उपयोगी वस्तु है   वैसे

कलाकार को उपकार  नहीं करने वाली वस्तु इस संसार में कुछ भी नहीं है। किसी भी वस्तु को  रसमय सौन्दर्य प्रदान करने की शक्ति कलाकारों में होती

है ...परन्तु वे समकालिक जीवन से सम्बन्ध से इतर वस्तुओं का उपयोग नहीं किये है ...उत्तम कला कृति समकालिक जीवन के लिए प्रतिबिम्ब  का कार्य ही नहीं  करती  बल्कि कभी कभी लोगों के जीवन संवारने  और संस्कारित करने का कार्य  भी करती है ... और  अनजाने में कलाकार परकाया प्रविष्ट योग तक अनुभव करता है ...कलाकार की साधना उसके भाव जगत को  इतना  शशक्त बनाता है  कि उसका प्रभाव आस पास की वातावरण ही नहीं जनजीवन में नयी चेतना जागृत कराता है ...क्योंकि साधारण उच्चारित शब्दों से प्रभावी भाव जगत से निकले शब्द ही स्थायी रूप से अन्य के हृदयों में स्थायी स्थान बनाती हैं ,वे ह्रदय से निकले शब्द होते हैं ... कला कृतिओं के प्रस्तुति के प्रभाव से जीवन - विधानों में परिवर्तन  भी संभावित है।। कलाकार समाज के लिए मार्गदर्शक है ...प्रतिभा संपन्न कलाकार अपने उत्कृष्ट कला सृजन से अपने प्रदेश तत्द्वारा सर्व देशों को हस्तगत करेंगे मेरा विश्वास है ,मैं कलाकार नहीं हूँ ..स्वल्प ज्ञान में जो उद्रेक कला के प्रति है व्यक्त करने का अवसर मिलो तो वामन किया ...कला ज्ञानी क्षमा करेंगे ...

....सांस्कृतिक  संगम  के द्वारा ललित कलाओं  की साधना में संलग्न सभी विधाओं के साधकों को एक मंच पर आकर  एक साथ काम करने का अवसर मिलता है ,जिसमे साहित्य ,गीत,संगीत ,चित्रकला,वादक,गायक, ध्वनि यांत्रिक,प्रकाश व्यवस्थापक ,,मंच सज्जा व बढई ,रंग पुताई ऐसे  कितने ही कलाओं में निपुण लोग के संयोग से  नाट्य कला मंचन की प्रस्तुति होती है। बस

केमेरा  मैन  और एडिटर  हो तो उसे फिल्म ही समझें .,हाँ फिल्म  बनानेमें ४ से ६ महीने लगेंगे,पर मंजे कलाकार हो तो दो दिन में नाटक तैयारकर मंच पर प्रस्तुति हो जाती है,वही तीन घंटे का प्रदर्शन.लोकेशन कीपूर्ति   तो प्रॉपर्टीज  की भव्यता ही  पूरी  कर  देती है। .

क्रमशः
Thank you for contacting us. We will get back to you as soon as possible
Oops. An error occurred.
Click here to try again.
Google+:Google+